Sunday, 4 July 2010

हिंदी कैलेण्‍डर के माह के नाम नक्षत्रों के नाम पर होते हैं !!

आप सबों को यह मालूम होगा कि पृथ्‍वी की वार्षिक गति के हिसाब से अंग्रेजी कैलेण्‍डर में 365 दिनों का एक सौर वर्ष होता है । पुन: पृथ्‍वी अपनी कक्षा में घूमती हुई उसी स्‍थान पर आ जाती है , जहां से दूसरा वर्ष शुरू हो जाता है। इस 365 दिन को सामान्‍य ढंग से 12 भागों में बांटकर 12 महीने तैयार कर दिए गए हैं। पर हिंदी कैलेण्‍डर अंग्रेजी कैलेण्‍डर से पूर्णतया भिन्‍न है , हमारे परंपरागत कैलेण्‍डर में सौर वर्ष और चंद्रवर्ष दोनो की गणना अलग ढंग से की जाती है। सौरवर्ष की गणना उस दिन से आरंभ की जाती है ,जिस दिन सूर्य मेष राशि में प्रवेश करता है। एक एक महीने में सूर्य की दूसरी राशि में संक्रांति के साथ साथ माह बदलता जाता है और 365 दिनों में एक वर्ष पूरा हो जाता है।

पर इसके अलावे पंचांग में एक और कैलेण्‍डर होता है , इसका आधार पृथ्‍वी की वार्षिक गति नहीं होती है। हिंदी कैलेण्‍डर में वर्ष की गणना न कर पहले महीने की गणना शुरू की जाती है। हिंदी के कैलेण्‍डर में पूर्णिमा के दूसरे दिन से लेकर अगले माह की पूर्णिमा तक एक माह पूरा होता है। इस प्रकार 12 माह होने पर एक वर्ष पूरा होता मान लिया जाता है। हिंदी महीनों के नाम हैं .. चैत्र , बैशाख , ज्‍येष्‍ठ , आषाढ , श्रावण , भाद्रपद , आश्विन , कार्तिक , मार्गशीर्ष , पौष , माघ , फाल्‍गुन। एक पूर्णिमा से दूसरे पूर्णिमा तक का समय लगभग 29 दिन कुछ घंटों का होता है , इसी कारण हिंदी वर्ष 354 दिनों में ही समाप्‍त हो जाता है और नए वर्ष की शुरूआत हो जाती है। इसलिए तीन वर्ष बाद सौरवर्ष की तुलना में समय एक माह पीछे चलने लगता है। इसके समायोजन के लिए पंचांगों में हर तीसरे वर्ष एक अधिमास की व्‍यवस्‍था रखी गयी है।

वैसे तो सामान्‍य तौर पर 15 मार्च के आसपास से हिंदी वर्ष की शुरूआत होती है , जिस समय सूर्य मीन राशि में होता है , इसलिए चैत्र माह का अमावस्‍या मीन राशि में और पूर्णिमा कन्‍या राशि में होना चाहिए। इसी प्रकार बैशाख माह का अमावस्‍या मेष राशि में और पूर्णिमा तुला राशि में होना चाहिए , पुन: क्रम से ज्‍येष्‍ठ माह का अमावस्‍या वृष राशि में और पूर्णिमा वृश्चिक राशि में , आषाढ मास का अमावस्‍या मिथुन राशि में और पूर्णिमा धनु राशि में , श्रावण माह का अमावस्‍या कर्क राशि में और पूर्णिमा मकर राशि में , भाद्रपद का अमावस्‍या सिंह और पूर्णिमा कुंभ राशि में , आश्विन का अमावस्‍या कन्‍या और पूर्णिमा मीन राशि में , कार्तिक का अमावस्‍या तुला और पूर्णिमा मेष राशि में , मार्गशीर्ष का अमावस्‍या वृश्चिक और पूर्णिमा वृष राशि में , पौष का अमावस्‍या धनु और पूर्णिमा मिथुन राशि में , माघ का अमावस्‍या मकर और पूर्णिमा कर्क राशि में तथा फाल्‍गुन का अमावस्‍या कुंभ और पूर्णिमा सिंह राशि में होना चाहिए।

पर सौरवर्ष की तुलना में चंद्रवर्ष के पीछे खिसकते जाने से हिंदी कैलेण्‍डर का माह इस तरह निश्चित नहीं रह पाता है। दरअसल हिंदी माह की गणना नक्षत्रों के हिसाब से की जाती है , जिस महीने पूर्णिमा चित्रा नक्षत्र में पडे , वहां चैत्र का महीना , जिस महीने पूर्णिमा बिशाखा नक्षत्र में पडे , बैशाख का महीना , जिस महीने पूर्णिमा ज्‍येष्‍ठा नक्षत्र में पडे , ज्‍येष्‍ठ महीना , जिस महीने पूर्णिमा पूर्वाषाढा नक्षत्र में पडे , आषाढ का महीना , जिस महीने पूर्णिमा श्रवण नक्षत्र में पडे , श्रावण का महीना , जिस महीने पूर्वभा्रद्रपद नक्षत्र में पडे , भाद्रपद का महीना , जिस महीने पूर्णिमा अश्विनी नक्षत्र में पडे , उस महीने आश्विन का महीना , जिस महीने पूर्णिमा कृतिका नक्षत्र में पडे , कार्तिक का महीना , जिस महीने पूर्णिमा मृगशिरा नक्षत्र में पडे , माघ का महीना , जिस महीने पूर्णिमा पुष्‍य नक्षत्र में पडे , पोष का महीना तथा जिस महीने पूर्णिमा फाल्‍गुनी नक्षत्र में पडे , उसे फाल्‍गुन का महीना माना जाता है।

8 comments:

  1. जानकारी के लिए धन्यवाद जी.

    ReplyDelete
  2. भारतीय माह पूर्णिमा से पूर्णिमा तक होता है, यह केवल उत्तर भारतीय मान्यता है। इस तरह आधा चैत्र इस वर्ष में और आधा अगले वर्ष में पड़ेगा। वस्तुतः पूर्णिमा से माह आरंभ करने की परंपरा उत्तर भारतीय है। भारतीय ज्योतिष में माह अमावस्या के बाद की प्रतिपदा से आरंभ हो कर अमावस्या के दिन समाप्त होता है।
    माह का नाम नक्षत्र के आधार पर ही रखे गए हैं। माह की पूर्णिमा के दिन चंद्रमा उसी नक्षत्र में होगा, इस नियम के अपवाद भी हैं। उन्हें भी बताइए। अधिक मास की पूर्णिमा के दिन चंद्रमा कौन से नक्षत्र में होगा यह भी बताएँ।

    ReplyDelete
  3. मगर नक्षत्र तो २७ हैं और माह १२ तब ?

    ReplyDelete
  4. उत्तराखंड में संक्रान्ति से मासारंभ माना जाता है. वहाँ १७ जुलाई से श्रावण मास प्रारम्भ हो जाएगा.

    ReplyDelete
  5. सुंदर जानकारी के लिए आभार

    ReplyDelete
  6. इस जानकारी के लिये आभार।

    ReplyDelete