Wednesday, 25 August 2010

जन्‍मकुंडली में सर्वाधिक महत्‍व लग्‍न का होता है !!

पुराने लेखों में मैने बताया ही है कि जन्‍मकुंडली में सर्वाधिक महत्‍व लग्‍न यानि पूर्वी क्षितिज में उदित होनेवाली राशि का होता है । लग्‍न के सापेक्ष सभी ग्रहों की स्थिति ही एक जातक की परिस्थितियां भिन्‍न होती हैं और उनके के सोंचने का ढंग भी अलग होता है । लग्‍न की जानकारी के लिए हमारे पंचांगों में एक चार्ट होता है , जिसमें बच्‍चे के जन्‍म तिथि , जन्‍मसमय और जन्‍मस्‍थान के आधार पर उसके लग्‍न की जानकारी हो जाती है। आज तो किसी जातक का लग्‍न निकालने के लिए बहुत सुविधा हो गयी है। इंटरनेट में भी आप किसी बच्‍चे के लग्‍न की जानकारी के लिए कई लिंकों पर जा सकते हैं , यहां और यहां । जन्‍म के शहर के लांगिच्‍यूड और लैटिच्‍यूड के लिए आप इस लिंक पर भी जा सकते हैं।

पूर्व के लेखों में बताया गया है कि सूर्य प्रत्‍येक राशि में एक एक महीने महीने भ्रमण करता हुआ सौरवर्ष के अंत में पुन: उसी स्‍थान पर आ जाता है। इस सूर्य और जन्‍म समय के आधार पर हम मोटा मोटी तौर पर किसी बच्‍चे के जन्‍म लग्‍न का अनुमान भी कर सकते हैं। 15 अप्रैल से 15 मई के मध्‍य सूर्य मेष राशि में होता है , इसलिए उस समय सूर्योदय के आसपास जन्‍म लेने वाला मेष लग्‍न में ही होगा , क्रमश: दो दो घंटे बाद लग्‍न परिवर्तित होता जाता है , इसलिए लगभग दो दो घंटे बाद जन्‍मलेने वाले बच्‍चे अगले लग्‍न में आते चले जाएंगे। इस माह मध्‍य दोपहर में जन्‍म लेनेवाला बच्‍चा कर्क लग्‍न में तथा सूर्यास्‍त के समय जन्‍म लेनेवाला बच्‍चे का जन्‍म मेष के ठीक सामने वाली राशि में यानि तुला लग्‍न में होगा। इसी प्रकार मध्‍य रात्रि में जन्‍म लेनेवाला बच्‍चे का लग्‍न मकर होगा।

इसी प्रकार सूर्य के वृष  राशि में होने के वक्‍त यानि 15 मई से 15 जून के मध्‍य सूर्योदय के आसपास जन्‍म लेनेवाला बालक वृष लग्‍न में जन्‍म लेगा , दो दो घंटे बाद जन्‍मलेनेवालों के लग्‍न आगे बढते चले जाएंगे और दो पहर के मध्‍य जन्‍म लेनेवाला सिंह लग्‍न में , सूर्यास्‍त के वक्‍त जन्‍म लेनेवाला वृश्चिक में तथा मध्‍य रात्रि को ज्न्‍म लेनेवाले का जन्‍म कुंभ लग्‍न में होगा। इसी प्रकार आगे के महीनों में सूर्य के राशि परिवर्तन के बाद यह चक्र बढता चला जाएगा। इस आधार पर आप मोटा मोटी तौर पर जातक के लग्‍न की जानकारी प्राप्‍त कर सकते हैं। मैने बारहो महीनों के लग्‍न चार्ट को एक छोटे से ग्राफ पेपर में भी समेटा है , उसके आधार पर भी आप किसी भी व्‍यक्ति की जन्‍म तिथि , जन्‍मसमय और स्‍थानीय समय के आधार पर जातक के लग्‍न का पता कर सकते हैं।

4 comments:

  1. लग्न की जानकारी के अलावा तीन अन्य उपयोगी लिंक भी मिले.

    ReplyDelete
  2. आपकी बाते मेरी लिये भी व और सभी के लिये लाभदायक है

    ReplyDelete
  3. संगीता जी आप का यह ब्लॉग तो कमाल का है ।

    ReplyDelete
  4. आप के ब्लॉग पर आकर बहुत अच्छा लगा संगीता जी, आप इस विषय पर ऐसे ही जानकारी देती रहें ....धन्यवाद....

    ReplyDelete