Sunday, 7 November 2010

बाल्‍यावस्‍था का प्रतीक ग्रह : चंद्रमा

पिछले आलेख में स्‍पष्‍ट हो चुका है कि चंद्रमा पृथ्‍वी का सबसे निकटतम ग्रह है , इस कारण इसका प्रभाव पृथ्‍वी पर सबसे अधिक पडता है। समुद्र में ज्‍वार भाटा का आना इसका सबसे अच्‍छा उदाहरण है। मनुष्‍य के जीवन में   चंद्रमा का सर्वाधिक प्रभाव बचपन पर पडता है। यदि मजबूत चंद्रमा लग्‍नेश (लग्‍न का स्‍वामी) , षष्‍ठेश(छठे भाव का स्‍वामी) , लग्‍नस्‍थ(लग्‍न में स्थित) या षष्‍ठस्‍थ(छठे भाव में‍ स्थित) हो तो वैसे बच्‍चे शरीर से बहुत मजबूत होते हैं। विलोमत: यदि कमजोर चंद्रमा लग्‍नेश , षष्‍ठेश , लग्‍नस्‍थ या षष्‍ठस्‍थ हो तो वैसे बच्‍चे शरीर से बहुत कमजोर होते हैं।

इसके अतिरिक्‍त यदि कर्क राशि में लग्‍नेश तथा मिथुन  , कर्क या सिंह राशि में सूर्य रहे तो बच्‍चे शरीर से मजबूत होते हैं , चाहे चंद्रमा कमजोर हो या मजबूत। इसके विपरीत यदि कर्क राशि में लग्‍नेश तथा धनु , मकर और कुंभ राशि में सूर्य हो तो वैसे बच्‍चे शरीर से कमजोर होंगे , चाहे चंद्रमा कमजोर हो या मजबूत। विभिन्‍न लग्‍नवालों के लिए कमजोर या मजबूत चंद्रमा का प्रभाव भिनन भिन्‍न होता है।

मेष लग्‍न में कमजोर चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चे अंतर्मन में अपने को माता से असंतुष्‍ट महसूस करते हैं। यदि चंद्रमा आठवें भाव में स्थित हो तो बच्‍चा बचपन में ही मां से दूर हो जाता है। इसके विपरीत मजबूत चंद्र में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चे माता का पूर्ण सुख प्राप्‍त करते हैं , वे या तो बडे या इकलौते होते हैं , जिनपर मां का पूरा ध्‍यान होता है।

वृष लग्‍न में कमजोर चंद्रमा में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चे भाई बहन से किसी न किसी प्रकार का बुरा अनुभव प्राप्‍त करते हैं , यदि चंद्रमा षष्‍ठस्‍थ हो तो उनका भाई बहनों से बहुत झगडा होता है। इसके विपरीत मजबूत चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चों का भाई बहन के साथ मधुर संबंध होता है।

मिथुन लग्‍न में कमजोर चांद में जनम लेनेवाले बच्‍चों के आसपास का वातावरण ऐसा होता है कि वे अपने को साधनहीन मानने लगते हैं। इसके विपरीत मिथुन लग्‍न में मजबूत चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चे अपने को साधन संपन्‍न और सुखी मानते हैं।

कर्क लग्‍न में कमजोर चांद में जन्‍म लेनेवाले बाल्‍यावस्‍था में शरीर से कमजोर होते हैं , उनको किसी प्रकार का शारिरीक कष्‍ट बना रहता है , पर इस लग्‍न में मजबूत चांद में पैदा होने वाले बच्‍चे शरीर से बहुत मजबूत होते हैं।

सिंह लग्‍न के बच्‍चे , जिनका चंद्रमा कमजोर है , अभाव महसूस करते हैं जबकि मजबूत चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चों के ऊपर काफी खर्च किया जाता है और वे अपने को संतुष्‍ट महसूस करते हैं। किंतु यदि सूर्य कर्क राशि में स्‍िथत हो , तो मजबूत चांद होने के बावजूद बच्‍चे को गंभीर शारिरीक कष्‍ट होता है।

कन्‍या लग्‍न में कमजोर चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चे स्‍वयं को किसी प्रकार की लाभ प्राप्ति के लिए कमजोर पाते हैं , पर इस लग्‍न में मजबूत चांद में जनम लेनेवाले बच्‍चों को किसी प्रकार का लाभ आसानी से प्राप्‍त हो जाता है।

तुला लग्‍न में कमजोर चांद में जनम लेनेवाले बच्‍चों को बचपन में उपेक्षित दृष्टि से देखा जाता है , जिससे उनके मन को चोट पहुंचती है , पर इस लग्‍न में मजबूत चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चों को महत्‍वपूर्ण समझा जाता है और उसका पूरा ख्‍याल रखा जाता है।।

वृश्चिक लग्‍न में कमजोर चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चे अपने को अभागा और कमजोर महसूस करते हैं , जबकि मजबूत चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चे अपने को भाग्‍यशाली और हिम्‍मतवर मानते हैं।

धनु लग्‍न में कमजोर चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चे अपनी दिनचर्या में अपने को बंधा हुआ महसूस करते हैं , जबकि इसी लग्‍न में मजबूत चांद में जनम लेनेवाले बच्‍चे मनमौजी और लापरवाह होते हैं।

मकर लग्‍न में कमजोर चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चे दोस्‍त का अभाव महसूस करते हैं , पारिवारिक माहौल भी कमजोर होता है । किंतु इस लग्‍न में मजबूत चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चों को खेलने के लिए बहुत सारे दोस्‍त होते हैं , पारिवारिक माहौल बहुत ही बढिया होता है।

कुंभ लग्‍न में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चों में रोगप्रतिरोधक क्षमता की कमी होने से बाल्‍यावस्‍था में शारीरिक कष्‍ट होता रहता है। इसके विपरीत इस लग्‍न में मजबूत चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता होती है , इसलिए बचपन अच्‍छा होता है।

मीन लग्‍न में कमजोर चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चे प्रारंभ में मंदबुद्धि के देखे गए हैं , जिससे वे अपने को उपेक्षित महसूस करते है , पर मजबूत चांद में जन्‍म लेनेवाले बच्‍चे अपनी तीक्ष्‍णबुद्धि के कारण परिवार वालों को विशेष लाड प्‍यार प्राप्‍त करते हैं।

इस प्रकार 12 वर्ष की उम्र तक बच्‍चों की सफलता , असफलता , मानसिक स्थित या उनके अन्‍य व्‍यवहार का कारण चंद्रमा होता है। आज के युग में चूंकि अभिभावक बच्‍चों के क्रियाकलापों के प्रति अधिक जागरूक है और उनके चहुंमुखी विकास के लिए प्रयत्‍नशील भी , अमावस्‍या के आसपास जन्‍म लिए बच्‍चों के व्‍यवहार से क्षुब्‍ध हो उठते हैं। बच्‍चों के ऐसे व्‍यवहार का कोई कारण उन्‍हे समझ में नहीं आता है। अभिभावको को बच्‍चों कर सफलता के साथ साथ उनकी असफलताओं को भी धैर्यपूर्वक स्‍वीकारना चाहिए , क्‍यूंकि ऐसे बच्‍चे अधिक महत्‍वाकांक्षी होने के कारण तरक्‍की करते देखे जाते हैं और 'पूत के पांव पालने में ही दिखते हैं' को एक सिरे से खारिज करते हैं। 'गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष' के हिसाब से चंद्रमा के कारण बच्‍चे में कोई शारीरिक या मानसिक समस्‍या उपस्थित हो तो उसका समाधान 12 वर्ष की उम्र के पश्‍चात संभावित है।

4 comments:

  1. पिछली पोस्ट के सन्दर्भ में मेरे द्वारा पूछे गए प्रश्नों का उत्तर नहीं मिला | इस पोस्ट के सन्दर्भ में फिर प्रश्न पूछ रहा हूँ - कृपया कमजोर और मजबूत ग्रहों की स्थिति को विस्तार से समझायें | कम से कम इस पोस्ट के सन्दर्भ में मजबूत और कमजोर चन्द्रमा का विवरण ही दे दें | संभवतः फलित ज्योतिष इसे उच्च और नीच के ग्रह कहता है |

    ReplyDelete
  2. भारतीय ब्लॉग लेखक मंच शहीद दिवस पर आज़ादी के दीवाने शहीद-ए-आज़म भारत माता के वीर सपूत भगत सिंह सहित उन सभी वीर सपूतो को नमन करता है जिन्होंने भारत माता को आजाद करने के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी.
    आईये हम सब मिलकर यह संकल्प ले की भारत की आन-बान और शान के लिए हम सदैव तत्पर रहेंगे. यह मंच आपका स्वागत करता है, आप अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच

    ReplyDelete
  3. हाय,विधि को बच्चों पर भी दया नहीं आई!

    ReplyDelete
  4. कमजोर हो या मजबूत चंद्रमा को असर तो डालना ही है वह मन का कारक जो ठहरा ।

    ReplyDelete